इस राशि के लोगों में पाया जाता है ‘रॉयल अंदाज’, दूसरों का आदेश मानने में समझते हैं अपनी तौहीन


Astrology, Zodiac Sign : ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मेष से लेकर मीन राशि तक 12 राशियां बताई गई हैं. हर राशि का अपना अलग स्वभाव होता है. ऐसी ही एक राशि है ‘सिंह राशि’. इस राशि का स्वभाव दूसरी राशियों से काफी जुदा होता है, क्योंकि इनमें पाया जाती है एक विशेष अदा.

सिंह राशि (Leo)
राशि चक्र के अनुसार सिंह राशि का स्थान 5वां माना गया है. इससे पहले कर्क राशि और इसके बाद कन्या राशि आती है. सिंह राशि का स्वामी सूर्य को माना गया है. सूर्य सभी ग्रहों के राजा हैं. इस राशि का चिन्ह भी एक सिंह है. जिस प्रकार से ग्रहों के राजा सूर्य है, उसी प्रकार से जंगल का राजा भी सिंह यानि शेर को माना गया है.

सिंह राशि को माना गया शक्तिशाली (Leo Personality)
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सिंह राशि को शक्तिशाली राशि माना गया है. सिंह राशि एक अग्नि तत्व की राशि है और इसकी दिशा ‘पूर्व दिशा’ है. इसका विस्तार राशि चक्र के 120 अंश से 150 अंश तक है. सिंह राशि के तीन द्रेष्काण और उनके स्वामी सूर्य,गुरु और मंगल हैं. इस राशि के अन्तर्गत मघा नक्षत्र के चारों चरण,पूर्वाफ़ाल्गुनी के चारों चरण और उत्तराफ़ाल्गुनी का पहला चरण आता है.

सिंह राशि का स्वभाव (Leo Nature)
सिंह राशि के बारे में माना जाता है कि जिन लोगों की राशि ‘सिंह’ होती है, वे अपने मान सम्मान का विशेष ध्यान रखते हैं. सिंह राशि वालों में योजना बनाकर कार्य करने की गजब की क्षमता होती है. इनमें लीडरशिप क्वालिटी भी पायी जाती है. ये नेतृत्व करने में माहिर माने जाते हैं. सिंह राशि की कुंडली में जब ग्रहों की स्थिति शुभ होते हैं तो सिंह राशि वाले जीवन में अपार सफलता प्राप्त करते हैं. 

सिंह राशि वालों का अंदाज राजाओं की तरह होता है. इन्हें दूसरों का आदेश मानना अच्छा नहीं लगता है, सिंह राशि वालों को दूसरों को आदेश देना बहुत प्रिय है. इनका स्वभाव नारियल की तरह होता है, यानि ऊपर से कठोर और भीतर से कोमल. इस स्वभाव के कारण कभी-कभी दूसरे लोग इन्हें अहंकारी समझने की भूल कर बैठते हैं. इन्हें क्रोध भी जल्द आता है. ये किसी काम को हाथ में जब लेते हैं तो उसे पूरा किए बिना नहीं मानते हैं. जिन लोगों के नाम का पहला अक्षर मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे से शुरु होता है, उनकी राशि सिंह होती है.

Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि ABPLive.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें.

Guru Asta 2022 : 32 दिनों तक गुरु अस्त रहने के बाद इस दिन होंगे उदित, इन राशि वालों की परेशानियां होंगी दूर, खुलेंगे प्रमोशन के रास्ते

Shani Dev : शनि 2022 में कब होंगे वक्री, कलियुग के दंडाधिकारी इन राशियों को 141 दिनों तक कर सकते हैं परेशान

Zodiac Sign : इस बुरी आदत पर के कारण सफल होने से चूक जाते हैं इस राशि के लोग, आप भी तो नहीं हैं इस लिस्ट में शामिल, जानें

.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *