Posted By admin Posted On

World Cancer Day: Cancer awareness is the most successful treatment, know how to avoid this risk


new Delhi: The name of cancer is enough to fill fear in any person. Every year thousands of people in India get caught in the cheek of untimely due to this life-threatening disease. According to a recently released National Health report, cancer patients are growing worryingly in the country. There is a need to run a awareness campaign about this disease on World Cancer Day on 4 February.

Doctors believe that it can be completely cured if the cancer information is in the initial stage. Although all forms of cancer are fatal, but the most dangerous brain tuber is considered.

2% of brain tumor patients in cancer deaths

Brain tumors account for 2 percent of the total deaths due to cancer. According to a 2018 global report, about 28142 people in India are affected by brain tumors every year. Due to this disease, the patient’s life and his family are negatively affected.

In brain tumor, some part of the brain suddenly starts growing. Which occurs in the cells of the brain, its layers and nerves. However these sills can be carcinogenic and noncancer. Non-cancerous tumors can be easily removed by operation.

At the same time, cancerous tumors grow very fast. Also, it spreads rapidly to other parts of the body, it can be fatal. However, 70 percent of brain tumors are non-cancerous.

कैसे होता ब्रेन ट्यूमर

ब्रेन ट्यूमर का सही कारण बता पाना मुश्किल है. हालांकि ब्रेन ट्यूमर के अधिकांस मरीजों में जान का जोखिम नहीं होता है. केवल कुछ घटनाओं में ही यह खतरनाक होता है.

-ब्रेन ट्यूमर को लेकर ऐसा देखा गया है कि यह बढ़ती उम्र के साथ बढ़ता जाता है.

– रेडिएशन के साथ ब्रेन ट्यूमर का खतरा बढ़ जाता है. विशेष रूप से बच्चों में इस बीमारी का खतरा बढ़ने की संभावना अधिक होती है.

-ब्रेन ट्यूमर का खतरा अनुवांशिक होता है. परिवार में किसी व्यक्ति को अगर यह बीमारी हुई है तो आने वाले लोगों में इस बीमारी का खतरा अधिक होता है.

-ब्रेन ट्यूमर होने के अन्य कारणों में मोबाइल फोन रेडिएशन, हार्मोनल फैक्टर, कम फ्रीक्येंसी वाली चंबकीय क्षेत्र और औद्योगिक इलाकों में इसका खतरा अधिक रहता है.

बीमारी के लक्षण

ब्रेन ट्यूमर के लक्षण उसके स्थान, विकास की दर और आकार पर निर्भर करता है. ये हैं कुछ खतरनाक लक्षण-

-ब्रेन ट्यूमर के अधिकांश मरीजों को सिर दर्द की शिकायत होती है. साथ ही उल्टी होने की भी शिकायत होती है.

-शरीर के किसी हिस्से में गांठ का होना

-ब्रेन ट्यूमर के मरीज को देखने, बोलने और सिर के किसी हिस्से में अनियत्रित रूप से किसी गांठ का विकसित होना आम है.

ब्रेन ट्यूमर का इलाज

ब्रेन ट्यूमर का इलाज न्यूरोसर्जरी, रेडिएशन और दवाओं द्वारा किया जाता है. बीमारी के लक्षण के आधार पर ही इलाज का तरीका चुना जाता है. प्रारम्भिक चरण में कीमोथेरपी के जरिए इलाज किया जाता है. जबकि विकसित चरण में ऑपरेशन और रेडियोथेरपी की जाती है.

हालांकि इस बीमारी से बचने का सबसे कारगर इलाज जागरूकता ही है. समय में की गई पहचान और इलाज से इस बीमारी से पूरी तरह मुक्त हुआ जा सकता है.

ये भी पढ़ें:

Mahabharat Katha: इस पाप की वजह से युधिष्ठिर को छोड़ द्रौपदी व बाकी पांडव नहीं जा पाए थे सशरीर स्वर्ग, पढ़ें विस्तार से

भारत में एंटीबायोटिक की खपत चीन से ज्यादा, एक दशक में 30 फीसद की हुई बढ़ोतरी- रिपोर्ट

Check out below Health Tools-
Calculate Your Body Mass Index (BMI)

Calculate The Age Through Age Calculator

.

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *